इतिहास के पन्नों से

00:00
चतुर्भुज मंदिर: जिसने दी दुनिया को एक संख्या

ग्वालियर क़िले में एक ऐसा मंदिर मौजूद है, जो पर्यटन दृष्टिकोण से भले ही उतना महत्वपूर्ण ना हो, मगर फिर भी ये ख़ास है। यहाँ मौजूद है एक शिलालेख जिसमें है शून्य की संख्या का सबसे पुराना उल्लेख I जानिये चतुर्भुज मंदिर की ये रोचक कहानी

दैनिक इतिहास

image description
दैनिक इतिहास

अफ़ग़ानिस्तान: यहां भी लड़ी गई थी भारत के आज़ादी की लड़ाई

by यश मिश्रा

आज अफ़गानिस्तान और उसकी राजधानी काबुल अंतर्राष्ट्रीय सुर्ख़ियों में हैं और वहां की स्थिति चिंताजनक है। मगर क्या आप जानते हैं, कि इनका ताल्लुक भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से भी है, जिसकी शुरुआत अठारहवीं शताब्दी के अंतिम वर्षों से होती है? जानिये ये कहानी

दैनिक इतिहास

कैसे विष्णु के अवतार वराह ने पृथ्वी को बचाया

जानिए कैसे विष्णु ने वराह अवतार लेकर दैत्य हिरण्याक्ष के कब्ज़े से बचाया था भू-देवी को।हम आपको बताते हैं विष्णु के तीसरे अवतार वराह के बारे में कुछ रोचक तथ्य

दैनिक इतिहास

महाराजा फ़तेह बहादुर शाही: अंग्रेजों से लोहा लेने वाले पहले भारतीय

क्या आप जानते हैं कि अंग्रेजों को सबसे पहले चुनौती देने वाला भारतीय बिहार से था, जिसने लगभग तीन दशकों तक पूरे पूर्वांचल में बगावत का बिगुल बजा दिया था? जानिये महाराजा फ़तेह बहादुर शाही की ये अनकही दास्ताँ:

किस्से कहानियाँ

00:00
image description

देवी अहिल्याबाई होलकर को भारत के सबसे कुशल शासिकाओं में माना जाता हैं I सन 1767 से लेकर सन 1795 तक, अपने अट्ठाईस वर्ष के शासन काल के दौरान इन्होने वाराणसी से लेकर रामेश्वरम तक और सोमनाथ से लेकर उत्तरकाशी तक सैंकड़ों मंदिरों, घाटों और धर्मशालाओं का निर्माण करवायाI समाज सुधार में अपनी एक महत्वपूर्ण छाप बनाने वाली अहिल्याबाई होलकर ने अपने शासनकाल में कई कठिनाईयों का सामना भी किया I जानिये इस महान रानी की ये प्रेरणादायक कहानी...