कंकाली टीला : मथुरा का जैन स्तूप



यमुना के तट पर स्थित मथुरा नगरी , भारत के सबसे ऐतिहासिक और प्राचीन शहरो मे से एक है | हिन्दू धर्म मे मथुरा को भगवन श्री कृष्ण की नगरी होने के कारन महत्व प्राप्त है | गरुड़ पुराण मे मथुरा का , भारत के सात सबसे पवन शहरो मे से एक , ऐसा उल्लेख है | पर क्या आप जानते है , जितना हिन्दू धर्म मे मथुरा का महत्व है उतना ही महत्व जैन धर्म मे भी है | पर ज्यादातर लोग मथुरा की जैन विरासत से अनजान है |

मथुरा का इतिहास तीन हज़ार साल से भी पुराना है | यहाँ पर पेंटेड ग्रे वेयर कल्चर के अवशेष मिले है जो हमे ये बताते है की यहाँ पर ११०० इसा पूर्व से मानवी आबादी रहा करती थी | समय के साथ, पंजाब से दक्षिण भारत जाने वाले व्यापारी मार्ग पर स्तित होने के कारण , मथुरा को महत्व प्राप्त हुआ | ४थि शताब्दी इसा पूर्व से मथुरा व्यापार का एक बड़ा केंद्र बना | दूर दूर से बड़े व्यापारी यहाँ आकर बसने लगे जिनमे जैन व्यापारी भी शामिल थे| यही से शुरू हुआ मथुरा नगरी और जैन धरमियो का एक गहरा रिश्ता जो आज भी कायम है |

कंकाली टीला की खुदाई का फोटो
कंकाली टीला की खुदाई का फोटो

मथुरा की ऐतिहासिक जैन विरासत की ज्यादा तर जानकारी हमे एक छोटे से टीले मे मिले अवशेषों से मिलती है , जिसे कंकाली टीला कहा जाता है | मथुरा के आज़ाद नगर परिसर मे स्तित इस टीले का नाम , पास के कंकाली देवी मंदिर से मिला है |

इस ऐतिहासिक टीले के बारे में बहुत कम लोग जानते है , जिसका उत्खनन सं १८७० से लेकर १८९० तक हुआ | उत्खनन मे मिले अवशेषों ने मथुरा के जैन कालीन इतिहास पर एक नया प्रकाश डाला | प्रख्यात पुरातत्त्ववेत्ता सर अलेक्जेंडर कन्निन्घम ने सं १८७१ मे कंकाली टीले के पश्चिमी भाग का उत्खनन किया |खुदाई के दौरान उन्हे शिल्प , ख़ाब , रेलिंग , गेटवे आदि के अवशेष मिले जो कुषाण साम्राज्य के काल से थे | कुषाण साम्राज्य के काल में (लगभग सं ३० से सं ३७५ तक) मथुरा नगरी कुषाण सम्राटो की दक्षिणी राजधानी हुआ करती थी | कंकाली टीले की खुदाई में बड़ी तादाद मे दानपात्र मिले जिनमे दाताओ के नाम लिखे हुए थे | ये दाता समाज के हर टपके से थे , एक लोहार की पत्नी , इत्तर के व्यापारी , एक तवाइफ़ , इत्यादि | इससे हमे मथुरा का जैन समाज कितना बड़ा और विभिन्न था ये पता चलता है |

तीर्थंकरों के बीच स्थित स्तूप 
तीर्थंकरों के बीच स्थित स्तूप 

कंकाली टीले का अगला उत्खनन सं १८८८ और १८९१ के बीच , प्रख्यात जर्मन पुरातत्त्ववेत्ता डॉ आंतों फुहरेर की अगवानी में हुआ |खुदाई के नतीजों ने भारतीय पुरातात्विक जगत को हिला दिया | यहाँ पर , भारत में पहली बार एक जैन स्तूप के अवशेष मिले थे , जो साबित करते थे की एक काल में जैन धर्मिय भी बौद्ध धर्मियो की तरह स्तूप की पूजा करते थे |हलाकि जैन स्तूप पूजा का सन्दर्भ , पुरातन जैन साहित्य में मिलता है , पर पहली पार इस तथ्य को पुरातात्विक सबूत के साथ साबित किया गया था | टीले की खुदाई मे , स्तूप के आलावा , दो जैन मंदिर भी मिले जो दिगंबर और श्वेताम्बर संप्रदाय के थे |

कंकाली टीले के इस जैन स्तूप का सन्दर्भ हमे १४वी सदी के एक जैन ग्रन्थ ‘विविध तीर्थ कल्प'’ में मिलता है| कल्प मे सन्दर्भ है की एक समय दो जैन भिक्षु मथुरा आये और उन्होने एक बाग़ मे आसरा लिया | उनसे प्रभावित होकर उस बाग़ की मालकिन, जो एक देवी थी, ने जैन धर्म अपना लिया | इस महिला ने पवित्र मेरु पर्वत के स्मरणार्थ , ये स्तूप बनवाया , जो ‘देवनिर्मित स्तूप '’के नाम से जाना जाता था |

एक जैन स्तूप रेलिंग का एक टुकड़ा जो एक तोरण का चित्रण दिखाता है
एक जैन स्तूप रेलिंग का एक टुकड़ा जो एक तोरण का चित्रण दिखाता है

कुछ इतिहासकारो का ये मानना है की ये स्तूप , सातवे जैन तीर्थंकर पार्श्वनाथ के स्मरणार्थ बनाया गया था |

विविध तीर्थ कल्प में हमे ,मथुरा मे जैन धर्म उपासना के अधिक संदर्भ मिलते है |कल्प मे लिखा है की भगवान कुबेर ने खुद मथुरा वासियो को जैन तीर्थंकरो की उपासना करने की नसीयत दी और इसी कारण हर घर के द्वार पर तीर्थंकरो की प्रतिमा लगाने का रिवाज शुरू हुआ |  जैन तीर्थंकर के मथुरा से गहरे सम्बन्ध थे | मान्यता के अनुसार २१वे जैन तीर्थंकर नमिनाथ का जन्म मथुरा मे ही हुआ| इस के अलावा, महावीर, २४वे और आखरी तीर्थंकर, भी मथुरा आए थे |

सरस्वती की प्राचीनतम मूर्ति
सरस्वती की प्राचीनतम मूर्ति

कंकाली टीले की खुदाई में  ८०० से ज्यादा जैन अवशेष मिले| एक देवी सरवती की मूर्ति भी मिली , जो १९०० साल पुरानी है | ये भारत की सबसे पुराणी देवी सरस्वती की मूर्ती मानी जाती है , जिसे एक जैन लोहार ने स्तूप को दान की थी | यह सिर रहित है, जिसके बाएं हाथ में पुस्तक है और दाहिने हाथ में एक माला है।

हम नहीं जानते की इस जैन स्तूप की तबाही कब और कैसे हुई | ११वी सदी मे सुल्तान महमूद ग़ज़नवी ने मथुरा पर हमला कर यहाँ पर बड़ी तबाही मचाई | इस भीषण हमले से मथुरा कभी उभर नहीं पायी | यहाँ के जैन मंदिर समय के साथ विलुप्त हो गए | १९ शताब्दी मे जैन व्यापारी फिर से मथुरा में बसने लगे और यहाँ का जैन समाज फिर से फूलने लगा |

आज कंकाली टीले से मिले अवशेष आप मथुरा म्यूजियम मे देख सकते है , जो मथुरा की पुरातन जैन विरासत के गवाह है |

Subscribe to our
Free Newsletter!

Subscribe to Newsletter!

Join our mailing list to receive the latest news and updates from our team.

close